अपनों के लिए नहीं, कुछ अनजानों की वजह से ज़िंदा हूँ I अपने रोटी के

अपनों के लिए नहीं,
कुछ अनजानों की वजह से ज़िंदा हूँ I
अपने रोटी के लिए तो सब काम करते है,
मैं कुछ बेगानों की भूख के लिए ज़िंदा हूँ

apnon ke liye nahi,
kuchh anjaanon ki vajah se zinda hoon
apne roti ke liye toh sab kaam karte hai,
main kuchh begaanon ki bhookh ke liye zinda hoon

I am alive not for my loved ones,
but because of some strangers.
I work for my bread,
I am alive for the hunger of some innocents.

Share

Leave a Comment