इतना हंसता था मैं अब मुस्कान भी नहीं आती, बोलनेमें कितना माहिर था

इतना हंसता था मैं अब मुस्कान भी नहीं आती,
बोलनेमें कितना माहिर था अब तो खुद को भी
मेरी आवाज़ भी नहीं आती।

itana hansta tha main ab muskaan bhi nahi aati,
bolnemen kitna mahir tha ab to khud ko bhi
meri awaaz bhi nahi aati

I used to laugh so much,
I don’t even smile anymore, how adept at speaking,
now even myself does not even know my voice.

Share

Leave a Comment