ऐ दोस्त, तू मुझे गुनहगार साबित करने की ज़हमत ना उठा, बस ये बता..

ऐ दोस्त, तू मुझे गुनहगार साबित करने की ज़हमत ना उठा,
बस ये बता क्या-क्या कुबूल करना है, जिससे दोस्ती बनी रहे..

aye dost, tu mujhe gunahgar sabit karne ki zahmat na utha,
bus ye bata kya-kya kubool karna hai, jisase dosti bani rahe..

O friend, do not bother to prove me guilty,
Just tell me what to accept, so that the friendship can be maintained.

Share

Leave a Comment