औकात और धर्म देख के दोस्ती नही करता जो दिल को अच्छा लगता है

औकात और धर्म देख के दोस्ती नही करता जो दिल
को अच्छा लगता है उसी से दोस्ती करता हूँ

aukaat aur dharm dekh k dosti nahi karta jo dil ko
achchha lagta hai usi se dosti karta hoon

I do not make friendship by seeing religion and religion,
I make friends with those who like the heart.

Share

Leave a Comment