कभी पन्ने कम पड़ गए तो कभी स्याही सूख गई, कुछ इस तरह मेरी……

कभी पन्ने कम पड़ गए तो कभी स्याही सूख गई,
कुछ इस तरह मेरी कहानी अधूरी रह गई

kabhi panne kam pad gaye to kabhi syahi sukh gayi,
kuchh is tarah meri kahani adhuri rah gai

Sometimes the pages fell short,
sometimes the ink dried up,
something like this my story remained incomplete.

Share

Leave a Comment