कितने ही अतिशय विषय हैं जग में सब में लिपटा क्यों है तू, विलय प्रलय

कितने ही अतिशय विषय हैं जग में सब में लिपटा क्यों है तू,
विलय प्रलय का लाप छोड़कर अब बस खुद में लग जा तू।

kitane hi atishay vishay hain jag mein sab mein lipata kyon hai tu,
vilay pralay ka lop chhodkar ab bas khud mein lag jaa tu

There are so many extreme topics,
why are you wrapped in everything in the world,
leaving the trap of merger,
now you just get involved in yourself.

Share

Leave a Comment