कैसी हो गई है ज़िन्दगी, सुबह होती है काम करना सिखाती है, फ़िर शाम

कैसी हो गई है ज़िन्दगी,
सुबह होती है काम करना सिखाती है,
फ़िर शाम को रोना सिखाती है।

kaisi ho gai hai zindagi,
subah hoti hai kaam karna sikhati hai,
fir sham ko rona sikhati hai

How has life become,
teaches to work in the morning, teaches to work,
then teaches to cry in the evening.

Share

Leave a Comment