गुनाह करके सजा से डरते है, ज़हर पी के दवा से डरते है. दुश्मनो के….

गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है.
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है

gunah karke saza se darte hai,
zahar pee ke dawa se darte hai.
dushmano ke sitam ka khauf nahi hame,
hum to doston k khafa hone se darte hai

They are afraid of punishment by committing sins,
They are afraid of poison.
We are not afraid of enemies.
We’re afraid of friends getting angry.

Share

Leave a Comment