जिसने हर क्षण को महोत्सव बनाया हो, जिसकी शिकायतें कम हो, और

जिसने हर क्षण को महोत्सव बनाया हो,
जिसकी शिकायतें कम हो,
और जिसने हर छोटी उपलब्धि के लिए भी
ईश्वर का धन्यवाद किया हो,
ऐसे व्यक्ति को दुख का आभास बहुत ही कम होता है।

jisne har kshan ko mahotsav banaya ho,
jiski shikayaten kam ho,
aur jisne har chhoti upalabdhi ke lie bhi
ishvar ka dhanyavad kiya ho,
aise vyakti ko dukh ka abhas bahut hi kam hota hai

Who has made every moment a festival,
whose complaints are less,
And who even for every small achievement.
Thank God,
Such a person has very little sense of sorrow.

Share

Leave a Comment