जैसे एक बछड़ा हज़ारो गायों के झुंड मे अपनी माँ के पीछे चलता है, उसी

जैसे एक बछड़ा हज़ारो गायों के झुंड मे
अपनी माँ के पीछे चलता है।
उसी प्रकार आदमी के अच्छे और
बुरे कर्म उसके पीछे चलते हैं।

jaise ek bachhada hazaro gayon ke jhund me
apni maa ke peeche chalta hai
usi prakar aadmi ke achchhe aur
bure karm usake pichhe chalte hain

Like a calf in a herd of thousands of cows.
He follows his mother.
In the same way, the good of man and
Bad deeds follow him.

Share

Leave a Comment