बिकता है गम इश्क के बाज़ार में, लाखों दर्द छुपे होते हैं. एक छोटे से…

बिकता है गम इश्क के बाज़ार में,
लाखों दर्द छुपे होते हैं.
एक छोटे से इंकार में,
हो जाओ अगर ज़माने से दुखी,
तो स्वागत है हमारी दोस्ती के दरबार में.

bikta hai gam ishq ke bazar mein,
lakhon dard chupe hote hain.
ek chote se inkaar mein,
ho jao agar zamane say dukhi,
to swagat hai hamari dosti k darbar mein.

It is sold in the market of gum ishq,
Millions of pains are hidden.
In a small denial,
If you are sad for a long time,
So welcome to the court of our friendship.

Share

Leave a Comment